.
Skip to content

बिन बात की बातों-बातों में बातों से रुलाये जाते हैं।

Wasiph Ansary

Wasiph Ansary

गज़ल/गीतिका

September 12, 2017

बिन बात की बातों-बातों में बातों से रुलाये जाते हैं ।
दीपक तो यहां जलते ही नहीं बस दिल को जलाये जाते हैं।।
ये अब्र कहां तक फैली है ये घटा कहां तक बरसेगी।
इस बात की कोई खबर नहीं क्यों छतरी लगाये जाते हैं।।
गर हिन्दू-मुस्लिम मिल के रहें तो हिन्द सलामत हो जाये।
इन पण्डित,मौलवी-मुल्लों से हम तो घबराये जाते हैं।।
कुछ लोग यहाँ पर ऐसे हैं जो धर्म के ठेके लेते हैं।
मन को तो कभी धोते ही नहीं हर रोज नहाये जाते हैं।।
ये मन्दिर-मस्जिद काहे को है जब प्रेम नहीं तो कछ भी नहीं।
क्यों अजां पुकारी जाती है क्यों घण्टे बजाये जाते हैं।।
तेरा भी लहू तो लाल ही है मेरा भी लहू तो लाल ही है।
क्यों जात-धर्म के नाम पर लोगों को लड़ाये जाते हैं।।

Author
Wasiph Ansary
Recommended Posts
बातें !सभी कर लेते हैं
छंद मुक्त रचना 000 बातें सभी कर लेते हैं बातों का असर सिर्फ तब होता है जब तदनुसार कर्म भी दिखते हैं. बातें याद नहीं... Read more
*कुछ बातों को अनकहे की रहने दो*
कुछ अनकहे ख्वाब रहने दो आँखों की बात आँखों को कहने दो राज़ खुल जायेंगे मुहब्बत के सारे कुछ बातों को अनकहे ही रहने दो... Read more
अक्सर लोग छोटी सी बात पे रूठ जाते है......
अक्सर लोग छोटी सी बात पे रूठ जाते है खुद पत्ता जैसे शाख से टूट जाते है पढने-लिखने से ज़माने की समझ मिलती है लेकिन... Read more
हसरतें  उठती  हैं  जज़्बात  मचल जाते हैं
हसरतें उठती हैं जज़्बात मचल जाते हैं वक़्त के साथ ऐसे रोज़ भी ढल जाते हैं यूँ तो उठते हैं ईश्क़ के तूफान दिल में... Read more