.
Skip to content

बिना मेहनत के नहीं मिलता कोई फल यारों

सुरेश कुमार 'सौरभ'

सुरेश कुमार 'सौरभ'

गज़ल/गीतिका

February 26, 2017

धरती खोदोगे तब मिलेगा तुम्हें जल यारों।
बिना मेहनत के नहीं मिलता कोई फल यारों।।

धूप में जिस किसान का बहा पसीना है,
लहलहाई है बस उसी की तो फसल यारों।।

सबसे पहले चलो समुद्र का मंथन कर लें,
बाद में देखेंगे अमृत है या गरल यारों।।

काम झटपट नहीं होते हैं अजूबे वाले,
बीस बरसों में बना था वो ताजमहल यारों।।

नौजवाँ हम हैं पूरी दुनिया को हिला देंगे,
गर इरादा अभी से करलें हम अटल यारों।।

ज़िदगी में अगर कीचड़ ही है तो क्या ग़म है,
जानते हो न कहाँ खिलता है कमल यारों ?

तोड़के रख लो अपनी मुट्ठी में उस सूरज को,
पथ का पर्वत अरे! फिर जायेगा पिघल यारों।।

चाह है तो न क्यों मिलेगा समंदर तुमको ,
दरिया बनकर तो कभी राह में दो चल यारों ।।

अब ज़रा सपनों से बाहर निकलके काम करो,
रेत पर क्यों बनाते रहते हो महल यारों ?

पहली ही बार में तुम गिरके हार मान गए,
करलो इक बार उस मकड़ी की तुम नकल यारों ।

देता ‘आराम है हराम’ का नारा ‘सौरभ’,
चींटियों का ये फिर से चल पड़ा है दल यारों ।

– सुरेश कुमार ‘सौरभ’

Author
सुरेश कुमार 'सौरभ'
क्या कहूँ मैं बात अपनी, मुझमें ऐसी बात ही का
Recommended Posts
जीत का जश्न
हमारी जीत पर कैसे धमाका हो रहा यारो बजे अब ढोल ताशे नाच गाना हो रहा यारों। मजे लेते रहेंगे देश में हम पाँच सालों... Read more
हर दिल अजीज नहीं होता यारों....
हर दिल अजीज़ नहीं होता यारों.... हर दिल में दोस्ताना नहीं होता यारों... हरेक दिल इतने करीब नहीं होता यारों... हरेक दिल मोहब्बत जितना अमीर... Read more
बुजुर्गो को अकेला न छोड़ो यारों
ज़ख्मो को खुला न छोडो यारों हौसलों को जरा न छोडो यारों *********************** मिलेगी ख़ुशी दुआओं से उनकी बुजुर्गों को अकेला न छोडो यारों ************************... Read more
ग़ज़ल (किसी के हाल पर यारों,कौन कब आसूँ बहाता है)
दिल के पास है लेकिन निगाहों से जो ओझल है ख्बाबों में अक्सर वह हमारे पास आती है अपनों संग समय गुजरे इससे बेहतर क्या... Read more