.
Skip to content

बिटिया

डॉ.सुरेन्द्र शर्मा

डॉ.सुरेन्द्र शर्मा

कविता

January 16, 2017

बिटिया

जब से तू आई है बिटिया
जीवन में मेरे बहार छाई है
सिर्फ बिटिया नहीं है तू
मेरे जीवन की परछाई है।

जीवन में तुम मिली मुझे
ईश्वर की अनमोल सौगात हो तुम
मुझे जिंदगी जीने का मिला
एक अर्थपूर्ण बहाना हो तुम।

मेरे चेहरे पर जो खिले
वो प्यारी मुस्कान हो तुम
तेरे चेहरे को देख खिले उठे
मेरे जीवन की वो बगिया हो तुम।

तुझ से मिली मुझे प्रेरणा
जब हर पल मुस्काती हो तुम
मिलती मुझको नई ऊर्जा
खिल-खिलाकर मुझे जब मिलती हो तुम।

फलो-फूलो तुम अमर बेल सी
सदा नेक राह पर चलो तुम
धन धान्य से परिपूर्ण रहे जीवन
आसमान की ऊंचाइयों को छुओ तुम।

दिल से निकले यही दुआ बस
हर पल सदा खुश रहो तुम
जब-जब भी मिलें ये जीवन मुझे
हर जन्म मिलें बिटिया बन तुम।

Author
Recommended Posts
बिटिया
बिटिया जब से तू आई है बिटिया जीवन में मेरे बहार छाई है सिर्फ बिटिया नहीं है तू मेरे जीवन की परछाई है। जीवन में... Read more
मुझमे है तू .......
Shankki Sharma गीत Jul 25, 2016
सोचु जो तुझे तो एक ख्वाईश सी लगती हो मेरे लम्हों की इंतेहा नुमाइश सी लगती हो मेरे तन्हाई के साथी सितारों सी लगती हो... Read more
बिटिया
घर आँगन की शान है बिटिया,माँ की जैसे जान है बिटिया बिटिया घर की रौनक होती, चेहरे की मुस्कान है बिटिया ख़ुशी ख़ुशी हर गम... Read more
तुम हो तो..................
तुम हो तो सब कुछ है तुम हो तो सपने हैं तुम हो तो बहुत से रिश्ते अपने हैं तुम हो तो सपनों के रंग... Read more