बिटिया रानी बड़ी सयानी

बिटिया रानी बड़ी सयानी,
थोड़ी सी नटखट करती शैतानी,
जब जब देखूँ मधुर मुस्कान,
अधरों से खिल उठते खुशी के गान,
होती जागृत नई नई चेतना,
जग की सारी दूर होती वेदना,

बेटी लक्ष्मी का रूप है,
नारायणी का स्वरूप है,
होती हैं हर कला में निपुण,
समय आने पर दिखाती हैं रण,
दो परिवारों का कराती हैं मिलन,
करते हैं हम कर जोड़ वंदन,
।।।जेपीएल।।

349 Views
J P LOVEWANSHI, MA(HISTORY) ,MA (HINDI) & MSC (MATHS) , MA (POLITICAL SCIENCE) "कविता लिखना...
You may also like: