Skip to content

बिटिया : मेरी संजीवनी

Mahendra singh kiroula

Mahendra singh kiroula

कविता

January 21, 2017

मैं सात समुन्दर पार हु रहता
हर पल जल थल छू के कहता
नेत्र बांध करुणा के बल से
क्षतिग्रस्त हु उस धरातल पे

झरोखे मैं आकर बिटिया पुकारे
कैसे जियु बिन तेरे सहारे
पापा हम तेरी तस्बीर निहारे
लौट के आ फिर कभी न जा रे

न कुछ खेल खिलोने चाहु
न सूंदर वस्तुओ की कामना
हर पल डरावना लगता तुम बिन
कैसे करु मैं इसका सामना

तेरी गोद मे समूचा स्वर्ग है
तू ही करतूरी का आनंद
तू ही मयूरी का नृत्य है
तेरे होने से मैं संपन्न

पिसते यादो को ह्रदय पर
अब समय के टुकड़े पत्थर बनकर
वो स्पर्श नन्हे हाथो का तेरा
वैकुंठनुभूति बातो को सुनकर

आकर मेरे गले से लग जा
ओ बिटिया तू मेरा जहाँ रे
ब्याकुलता से प्राण से जाते
संजीवनी मेरी और कहाँ रे

Share this:
Author
Recommended for you