Jun 3, 2019 · गीत
Reading time: 1 minute

बिटिया की अंखियां( -संस्मरण गीत ससुराल से)

बदरी बाबुल के अंगना जइयो, जइयो बरसियो कहियो ।
कहियो कि हम हैं तोहरि बिटिया की अंखियां।
तुम्हरो कहा नहीं मानो, चिठिया न परहिवो जानो
बूझौ कहा लिखि भेजो, भेजौ कि हम हैं तोहरी बिटिया की चीठिया।
बचपन की याद सतावै, बाबुल जब मोहे ना झुलावै।
अखियां मोरी-भरि भरि आवै-आवे अंगुरी पकरी के डोले बाबुल की बिटिया।
कहियो।
न ही वो चांद सितारे, न ही वो दिनवा प्यारे।
कहियो निहारे तोहरी बाट रेखा भैया।
कहियो कि हम है तोहारी बिटिया की अंखियां।

2 Likes · 78 Views
Copy link to share
rekha rani
105 Posts · 9.1k Views
Follow 6 Followers
मैं रेखा रानी एक शिक्षिका हूँ। मै उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ1 मे अपने ब्लॉक... View full profile
You may also like: