बिखर गए अहसास

बिखर गए अहसास जैसे
कागजों के ढेर थे
बिखर गए अहसास जैसे
किताबों के बगैर थे
बिखर गए है अहसास जैसे
अतीत के दरपन थे
बिखर गए अहसास जैसे
रुकी हुई धड़कन थे
बिखरते रहे हर नौबत में ऐसे
कि शाख से फूल अलग थे
बिखरते रहे बार-बार, शराफत में ऐसे
कि चराग के नीचे, अंधेरे अज़ल थे
बिखरे हैं, तो हवाओं में धूल के कण
बिखरे हैं, तो मुट्ठी से फिसलते क्षण
यूँ ही बिखर जाते है अहसास
इल्जाम लगाने से
बिखर जाती हैं कई कयास
उम्मीद के सिरहाने से
बिखरते तो है फुरसत के पल
बेचैनीयों में ऐसे
कि लगता है
गिरते आसमान के तारों से
कितने अनजान थे
बिखर गये अहसास ऐसे
कि खुशबओं के तसव्वुर थे
बिखर गये अहसास ऐसे
कि महकें, मगर कई बेखबर थे

शिवम राव मणि

Like 1 Comment 2
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share