मुक्तक

तुम ही भारत के बाल वीर हो।
अभिमन्यु सरीखे महा धीर हो।
अमित शक्ति क्षमता के मालिक तुम-
अति तीव्र दो धारी शमशीर हो।
-लक्ष्मी सिंह

Like Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing