.
Skip to content

बाल दिवस”

सुनील पुष्करणा

सुनील पुष्करणा "कान्त"

कविता

November 14, 2017

सभी बालक-बालिकाओं को “बाल दिवस” की अनंत शुभकामनाएं…

14 नवम्बर
“बाल दिवस”
छोटा सा जीवन है बच्चों
बनाना तुम भी बड़े महान
फिर जग में चाचा नेहरू सा
अमर रहेगा पीछे नाम…
उनके पावों में आंधी थी
मुठ्ठी में भरी तूफ़ान
हंस-हंस कष्ट सहे जेलों में
लेखक थे वे बड़े महान…
बच्चों से भरपूर प्रेम था
बहुत प्रिय था भारत देश
कई कबूतर छोड़े नभ में
दे जग शान्ति का सन्देश…
बाल दिवस आया खुशियां ले
जन्मदिवस भी उनका साथ
आओ बच्चों मिलकर गाएं
चाचा नेहरू ज़िंदाबाद
चाचा नेहरू ज़िंदाबाद

सुनील पुष्करणा

Author
Recommended Posts
बच्चों का त्योहार
नन्हे मुन्ने बच्चों का बाल दिवस त्योहार है । चाचाजी का समर्पित बच्चों के प्रति प्यार है ।। आज बच्चों में उत्साह बेशुमार है ।... Read more
बाल दिवस
1 बच्चे ही हैं देश की,उन्नति के आधार चाचा नेहरू का करें,स्वप्न सभी साकार स्वप्न सभी साकार,बचायें इनका बचपन इन्हें पढ़ाकर खूब,सँवारे इनका जीवन रहे'अर्चना'याद,बड़े... Read more
बाल साहित्य
विषय - बाल साहित्य बच्चों को जो साहित्य भाता है । जो रोचक भाषा में लिखा जाता है, वह बाल साहित्य कहलाता है ।। इसके... Read more
बाल दिवस पर
बचपन के दिन की यादे प्यारी सी तोतली बाते नही चाह नही परवाह खुशी भरी थी दिन व रातें आगे की परवाह न थी न... Read more