.
Skip to content

बाल दिवस का ओचित्य क्या है?

Onika Setia

Onika Setia

कविता

November 14, 2017

जहाँ बेबस माओं के आँचल से ,
मासूम बच्चे छीन कर मौत के हवाले कर दिए जाएँ.
जहाँ बेसुध माँ की कोख में ही ,
कन्या -भ्रूण को मिटा दिया जाये .
जहाँ नवजात शिशु सड़कों /गटरों / कचरे के डब्बों में ,
में अधमरी अवस्था में कचरा समझकर फेंक दिया जाये .
जहाँ मासूम /अबोध बालक/बालिकाओं के साथ ,
अश्लील दुराचार कर उनका बचपन और जीवन नष्ट कर दिया जाये.
फिर ऐसे में क्या लाभ बाल दिवस मनाने का ?
भला जिस भारत वर्ष में उसका भविष्य ही सुरक्षित व् सुखी नहीं ,
उस देश में क्या ओचित्य है बाल दिवस मनाने का ?

Author
Onika Setia
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक , लिंक्ड-इन , दैनिक जागरण का जागरण -जंक्शन ब्लॉग, स्वयं... Read more
Recommended Posts
मासूम क़ातिल
क़ातिल कभी मासूम नहीं होता है, मासूम कभी क़ातिल नहीं होता है, मासूम कहीं हो जाए बिसमिल अगर, बिसमिल ख़ूनी,क़ातिल नहीं होता है।
एक मासूम की मौत !
एक मासूम की मौत ! लोगो के व्हाट्स अप की डी पी पर देख कर मुझे ये ख्याल आया है . डी पी पर जलती... Read more
एक ख़्वाब है तू अगर  पूरा हो जाये
दिन दिन सा हो जाये रात जागी सो जाये एक ख़्वाब है तू अगर पूरा हो जाये उम्मीद कहाँ फिर भी इतना कुछ है फिर... Read more
अंधेरों को हमसफ़र किया जाये
अंधेरों को हमसफ़र किया जाये नज़रों को यूँ तेज़तर किया जाये निकले हुए हैं तीर ज़माने भर से ज़रूरी है सीना सिपर किया जाये रख... Read more