बाल कविता

“आँगन में भर आया पानी”

छुटकी आओ….मुन्नी आओ
झम-झम करती….बारिश आई
ताता-थैय्या….शोर मचाओ
मौज मनाने….की रुत आई।

कागज़ की हम….नाव बनाएँ
आओ करते….हैं मनमानी
उछलें-कूदें….गोते खाएँ
आँगन में भर….आया पानी।

रंग-बिरंगे….छातों से हम
पेड़ परिंदे….बन उड़ जाएँ
इच्छाओं के….पंख लगाकर
आसमान में….दौड़ लगाएँ।

अंतरिक्ष ने…. सात रंग का
रूप सलौना….दिखलाया है
शेर-शेरनी….ब्याह रचाते
सावन मौसम….मन भाया है।

नीम तले हम….झूलें झूला
बन किलकारी….आँगन चहकें
पेंग बढ़ाकर….गगन चूमते
बिसरा मजहब….उपवन महकें।

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’
वाराणसी (उ. प्र.)
संपादिका-साहित्य धरोहर

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share