.
Skip to content

बाल कविता

आशीष बहल

आशीष बहल

कविता

December 30, 2016

दूध मलाई रोज खाओ

चुनु मुनु दो भाई, खूब खाते दूध और मलाई
दूध है उनको खूब भाता पीकर उनको बड़ा मजा आता,
दो गिलास दूध जो पीते , नम्बर भी हैं पुरे मिलते,
सबको हैं वो खूब भगाते, खेलों में भी  वो जीत जाते
बीमार कभी न दोनों होते, रोज तभी तो स्कूल को जाते,
सबको सेहत का राज बतलाते , दूध मलाई है खूब खाते।
आशीष बहल चुवाड़ी
जिला चम्बा

Author
आशीष बहल
अध्यापक, कवि, लेखक व विभिन्न समाचार पत्रों में स्तम्भ लेखन
Recommended Posts
दूध सी सफेदी
"दूध सी सफेदी" (सत्य लघुकथा) """""""""""""""""""" मैं नित्य की तरह ब्रह्ममुहूर्त में रसोईघर में दूध गर्म करके उसमें कॉफी मिलाई और पी ली तथा शेष... Read more
कविता का महत्व
जनम लिया तो अम्मा ने कविता से सहलाया था, जब जब रोया, तब तब उसने कविता से बहलाया था, कविता की ही दादी नानी ने... Read more
मंदिर में दूध चढ़ाना न,   पाप नहीं था
इंसानियत के फ़र्ज़ को कैसे भुला दिया ? बेबस था वो बच्चा उसे तुमने रुला दिया । मंदिर में दूध चढ़ाना न, पाप नहीं था,... Read more
दूध के दाँत
दूध के दाँत ************* -डाक्टर साहब ! मुझे ये वाला दाँत निकलवाना है ! -इसे निकलवाने की क्या जरूरत है बेटा ! कच्चा दांत है... Read more