Skip to content

बाल कविता – सतरंगी मीठे फल प्यारे

Ranjana Mathur

Ranjana Mathur

कविता

September 10, 2017

लाल रंग का गोल सेब है
हरे रंग का है अमरूद।
पीला पीला मस्त आम है
और हरे भरे गुच्छे अंगूर।

नारंगी होता है संतरा
और चीकू का रंग है भूरा।
मौसम्मी हरी पीली सी
खरबूजा है गोरा गोरा।

लीची मीठी लाल लाल सी
पीले केले पर चढ़ी खाल खाल सी।
अनार का रंग होता मटमैला
जामुनी जामुन बड़ा रसीला।

तरबूज बाहर से हरा अंदर है लाल
पीला पपीता भी बड़ा कमाल।

रंगों की पहचान कराते
ये सब मीठे फल हैं प्यारे।
सेहत के लिये जरूरी हैं सारे
इन सब फलों को खाकर ही
बनेंगे बच्चे बुद्धिमान हमारे।

—रंजना माथुर दिनांक 10/09/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Author
Ranjana Mathur
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र... Read more
Recommended Posts
सप्त रंगो की चुनर
sunil nagar गीत Nov 8, 2017
एक गीत सादर प्रस्तुत इन्द्रधनुष के सप्त रंगो से चुनर को रंग दूंगा , लाल, गुलाबी, नीला, पीला, बैंगनी रंग, रंग दूंगा । अम्बर से... Read more
धरती
चारो ओर सिर्फ बदसूरत सी थी धरती कही धूल तो कही धुंआ सी थी धरती बड़ी बड़ी दरारों से भरी थी ये धरती सिर्फ सोने... Read more
@@@ रंग @@@
[[[[ रंग ]]]] वाह ! रंग भी क्या शब्द है, क्या भाव है, क्या अर्थ है || बिना इस रंग के संसार में भूमि-नभ-जीवन व्यर्थ... Read more
!!~~होली के रंग~~पर हावी करो प्रेम का रंग~~!!
ये रंग, जो कल चढ़ जाएगा होली के सग संग यह भी धुल जाएगा किसी पर लाल गुलाल किसी पर केसरिया किसी पर किसी का... Read more