बाल कविता- बस्ता

बाल कविता- बस्ता

खुद से भारी बस्ता ढोकर
गिर जाते हैं बेसुध होकर
आज दिवस छुट्टी का आया
हम बच्चों के मन को भाया
बस्ते को अब कर के टाटा
खूब करेंगे सैर सपाटा
चलो आज करने मनमानी
मस्ती में डूबी शैतानी

– आकाश महेशपुरी

1 Like · 208 Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा माता- श्री मती...
You may also like: