Skip to content

बाल कविता :– गुड़िया है दंग !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

June 27, 2016

गुड़िया है दंग

सूरज किरन , चमके गगन ,
चले सनन-सनन, बहकी पवन ,
उडती पतंग !
गुड़िया है दंग !!

खीचे है डोर , मस्ती और शोर,
मन को हिलोर , हसे जोर-जोर,
अम्मा के संग !
गुड़िया है दंग !!

ले के आश , गई अम्मा के पास ,
इन्द्रधनुश , दमके आकाश ,
इन्द्रधनुश का प्यारा रंग !
गुड़िया है दंग !!

कोयल कूके , बाग बगीचे ,
अति प्रिय वाणी , नभ तल नीचे ,
नीलकण्ठ का प्यारा अंग !
गुड़िया है दंग !!

करता कल-कल , नदिया का जल,
होती हलचल , हरदम हरपल ,
उठती जल तरंग !
गुड़िया है दंग !!

बडी ठाठ-बाठ , है सोन घाट ,
देवी के द्वार , सजता है हाट ,
मन मे उमंग !
गुड़िया है दंग !!

सर्कस जादू , ठेलम ठेला ,
गुड्डे गुडियों से सजा है मेला ,
दुल्दुल घोडी और मलंग !
गुड़िया है दंग !!

गुलाबजामुन और मिठाई ,
पानीपुरी संग चाट खटाई ,
बर्फी पेठा और मलाई ,
खूब सजे लड्डू और लाई ,
लस्सी और भंग !
गुड़िया है दंग !!

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
नन्हीं गुड़िया
मैं नन्ही सी प्यारी गुडिया मम्मी की दुलारी गुडिया चंदा है मामा मेरे पापा के मन न भाई गुडिया मुझे उठाया पास बिठाया साथ ले... Read more
गुड़िया आई गुझिया लाई
गुड़िया आई गुझिया लाई सावन का मौसम मनभावन डाल डाल पर पड गए झूले हम सब झूले मन भी झूमे कजरी गीत सुनी सुहाई गुड़िया... Read more
क्षणिका **  नाकाम कोशिश **
बड़ी नाकाम कोशिश थी हमारी तुम्हें पत्थर से मोम बनाने की आज देखकर तुम्हारे इस रूप को आँखों को विश्वास नही होता कि कल तलक... Read more
जमाने से मुझको नहीं कोई मतलब तुम्ही मेरी दुनियाँ चले आओ पापा... बैठी हैं कब से सीढ़ियों पे भूखी मैं और मेरी गुड़िया चले आओ... Read more