.
Skip to content

बाल उमंग ( बाल कविता)

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

March 30, 2017

आज गेंद-सा ,
मैं उछलूंगा ।
आगे बढ़ने
को दौड़ूंगा ।
बड़ी खाईंयां ,
मैं लांघूंगा ।
जीवन को अब,
मैं जानूंगा ।
पापा से यह ,
गेंद मंगाई ।
जैसे – लड्डू
और मलाई ।
इसे फेंककर,
मैं उछलूंगा ।
और पकड़ने
को दौड़ूंगा ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
****************************************** कलम की कोर से काजल , लगाता हूँ मैं कविता को । दिखा कर आइना दिल का , सजाता हूँ मैं कविता को ।... Read more
कविता या कहानी नहीं
kamni Gupta शेर Aug 15, 2016
कैसे कह दूं मैं कोई कहानी। न मैं कोई कवि न मैं कोई ज्ञानी।। चंद लफ्ज़ों में कैसे कह दोगे उसकी ज़िन्दगी कहीं। इन्सान है... Read more
बाल कविता
Santosh Khanna गीत Oct 12, 2017
बाल कविता बच्चों को दिवाली उपहार देखो खेले मेरी मुनिया भांति भांति के सुंदर खेल। कभी उछाले गेंद हवा में कभी पलंग के नीचे डाले... Read more
बाल कविता
पढ़ना चाहें गे एक बाल कविता। थोड़े समय के लिए बन जाये बच्चे। पंछियों को देख उड़ता मै भी अब उड़ना चाहूं पूछ रही हूं... Read more