23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

बारिस

क्याे इस बरस, रही हाे इतनी बरस,
बहुत हुआ,बरसकर अब मत बरस,
नही बरसती ताे तरसते, इस बरस,
बरसाकर तरसा रही हाे, इस बरस,
नही भूले बारिस जाे हुई पिछले बरस,
आंसू नही सूखे जाे मिले पिछले बरस,
नहर नहर लहर लहर हाे रही कहर कहर,
डगर डगर पहर पहर डूब रहे शहर शहर,
कड़क कड़क चमक चमक दामिनी दमके,
फड़क फड़क धड़क धड़क जिया धड़के,
सड़क सड़क पकड़ पकड़ किस ओर भटके,
गड्डे गड्डे बड़े बड़े भरे पड़े देते झटके,
।।।जेपीएल।।।

1 View
जगदीश लववंशी
जगदीश लववंशी
368 Posts · 12.8k Views
J P LOVEWANSHI, MA(HISTORY) ,MA (HINDI) & MSC (MATHS) , MA (POLITICAL SCIENCE) "कविता लिखना...
You may also like: