बारिश....

गज़ल

ग़मों का बोझ बढ़ाने को आ गई बारिश ,
हमारी जान जलाने को आ गई बारिश ।

किसी की याद को हमनें भुला के रखा था,
उसी की याद दिलाने को आ गई बारिश ।

जमीं को जितने अजब ज़ख्म दे गया सूरज,
उन्हीं की टीस बढ़ाने को आ गई बारिश ।

किताबे दिल पे तेरा नाम था लिखा हमनें ,
उसी के हर्फ़ मिटाने को आ गई बारिश ।

अभी तो “आरसी” आँखों में थी नमी बाकी ,
दुबारा आँख भिगाने को आ गई बारिश ।

– आर० सी० शर्मा “आरसी”

1 Comment · 27 Views
गीतकार गज़लकार अन्य विधा दोहे मुक्तक, चतुष्पदी ब्रजभाषा गज़ल आदि। कृतिकार 1.अहल्याकरण काव्य संग्रह 2.पानी...
You may also like: