" बारिश "

आसमान में बिजली ने अपनी चमक चमकाई है ,
नए उमंग जैसे हृदय में समाई है ।

लगता है आज फिर बारिश आई है ,
कई नए नगमों की सौगात साथ लाई है ।

मिट्टी की सौंधी खुशबू की महक आई है ,
आज बारिश फिर तन – मन को भिगोने आई है ।

मौसम ने भी अपना किरदार निभाई है ,
कुछ पल की बौछार अपने साथ लाई है ।

हर एक बूंद में शबनम समाई है ,
लगता है आज की बारिश अपने यौवन पर आई है ।

🙏 धन्यवाद 🙏

✍️ ज्योति ✍️
नई दिल्ली

2 Likes · 6 Views
पिता - श्री शिव शंकर साह माता - श्रीमती अनिता देवी जन्मदिन - 09-10-1998 गृहनगर...
You may also like: