" बारिश की बूंदें "

” कुछ खो गया ,
कुछ बाकी है ।
आज फिर तेरे आने की ख्वाहिश बाकी है ! “

ये जो बारिश की बूंदें है ,
गगन से धरती पर गिरे जा रही है ।
तुम्हें तो नहीं लेकिन ,
तुम्हारी सौगात ला रही है ।।

ये जो बारिश की बूंदें है ,
तन को भिगोए जा रही है ।
तुम तो कुछ कहते नहीं लेकिन ,
तुम्हारी मन के गीत ये गुनगुना रही है ।।

ये जो बारिश की बूंदें है ,
जमीं पर गिर के बिखर जा रही है ।
तुम तो बयां करते नहीं लेकिन ,
तुम्हारा हाले दिल मुझे महसूस करा रही है ।।

ये जो बारिश की बूंदें है ,
पत्तियों पर गिर शबनम बिखेरे जा रही है ।
तुम तो पास हो नहीं लेकिन ,
तुम्हारे प्यार का एहसास करा रही है ।।

🙏 धन्यवाद 🙏

✍️ ज्योति ✍️
नई दिल्ली

Voting for this competition is over.
Votes received: 40
3 Likes · 53 Comments · 116 Views
पिता - श्री शिव शंकर साह माता - श्रीमती अनिता देवी जन्मदिन - 09-10-1998 गृहनगर...
You may also like: