.
Skip to content

बाय बाय 2016

विजय कुमार अग्रवाल

विजय कुमार अग्रवाल

कविता

December 31, 2016

कैसे सोलह शुरू हुआ था ,जिसका आज आखरी दिन है ।
नमन हमारा आप सभी को , साल का देखो अंतिम दिन है ॥
पहले माफ़ी हाथ जोड़ कर ,गर कोई भूल हुई हो हमसे ।
आपका दिल तो बहुत बड़ा है ,और फ़िर आप बड़े है हमसे ॥
करूँ शुक्रिया उन लोगों का , जो नफरत करते है हमसे ।
मज़बूती का कारण वो है , हर उलझन तब सुलझी हमसे ॥
धन्यवाद उनको भी कहना , प्यार किया जिसने भी हमसे ।
क्योंकि उनके प्यार कि खातिर , जीते है हम हर जंग सबसे ॥
प्रार्थना करनी है अब रब से , जीवन मेरा देन है उसकी ।
सुख दुख देन उसी कि तो है , उसको प्यारे है हम सबसे ॥

विजय बिज़नोरी

Author
विजय कुमार अग्रवाल
मै पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर शहर का निवासी हूँ ।अौर आजकल भारतीय खेल प्राधिकरण के पश्चिमी केन्द्र गांधीनगर में कार्यरत हूँ ।पढ़ना मेरा शौक है और अब लिखना एक प्रयास है ।
Recommended Posts
आंखों को हमसे और  रुलाया न जाएगा
आंखों को हमसे और रुलाया न जाएगा दिल का इलाज ऐसे कराया न जाएगा चाहें वफ़ा के बदले मिली बेवफ़ाई है पर प्यार पहला हमसे... Read more
क्या तुमको हमसे प्यार नहीं ?
Neelam Ji गीत Jul 15, 2017
??????? हमें तुमसे प्यार कितना तेरा इंतजार कितना तुमको एतबार नहीं क्या तुमको हमसे प्यार नहीं । चाहा तुमको हद से ज्यादा तुमने किया ना... Read more
प्यार का बंधन
प्यार का बंधन अर्पण आज तुमको हैं जीवन भर की सब खुशियाँ पल भर भी न तुम हमसे जीवन में जुदा होना रहना तुम सदा... Read more
अनोखा प्यार का बंधन
अर्पण आज तुमको हैं जीवन भर की सब खुशियाँ पल भर भी न तुम हमसे जीवन में जुदा होना रहना तुम सदा मेरे दिल में... Read more