.
Skip to content

बाबा साहेब डा० भीम राव अम्बेडकर के श्री चरणों में समर्पित चार पंक्तियाँ

Pritam Rathaur

Pritam Rathaur

मुक्तक

April 14, 2017

बाबा साहेब के शुभ जन्मदिवस पर
चार पंक्तियाँ समर्पित

देश जब बरसों तलक त्रासदी को सहता है
तब कहीं ऐसा चमन में ये पुहुप खिलता है

गूँजती चारो दिशाओं में त्राहि की बोली
तब कोई ऐसा गुणी संविधान रचता है

प्रीतम राठौर
श्रावस्ती ( उ० प्र०)

Author
Pritam Rathaur
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है... Read more
Recommended Posts
वार्ता मेरे अनपढ़ कम्पाउंंडर के साथ*
*कायर हु पर वीर हु साहेब शंभू ठाकुर नाम से क्या होत है साहेब नाम है बर्फ बहुत ठण्डी होती है जला देती है नाम... Read more
उड़ी बाबा !
एक बाबा, दूसरा बाबा और फिर तीसरा बाबा---! उडी बाबा- --! निर्मल,पाल,आशा और फिर राम-रहीम- - - कितने बाबा! उड़ी बाबा! रामप्यारे, रामदुलारी मंच पर... Read more
गर्दन उठा कर , शान से जीना सिखा दिया ! करता हूं नमन भगवान्; मुझे ऐसा पिता दिया! नारी का सम्मान,गरीबों-खातिर लड़ने का गुण, अपने... Read more
शिव भजन
सावन के चौथे सोमवार को भगवान शिव के भक्तों की सेवा में सादर समर्पित एक शिव भजन ...! ---------------------- * शिव परिवार * -------------- मेंहदी... Read more