Skip to content

बाबा साहब भीमराव अंबेडकर

साहेबलाल 'सरल'

साहेबलाल 'सरल'

गीत

January 27, 2017

भीमराव बाबा साहब आम्बेडकर

भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।
आन बान और शान के खातिर जीने का सामान दिया।।

पहला मन्त्र दिया बाबा ने संग संग में काम करो।
छोड़ोगे मनभेदों को ही तब ही जग में नाम करो।
थोडा बहुत फासला होगा सबका सबके चिन्तन से।
तू तू मैं मैं खिचातानी का हल खोजो मंथन से।।
जुबां दे दिया हर गूंगे को हर बहरे को कान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।1।

अपने अधिकारों को जानो पाने को संघर्ष करो।
क़ुरबानी जो चाहे करनी भी हो तो सहर्ष करो।।
जिस दिन भी जागे जागा सौभाग्य जगत की रीत है।
डर को डरा डरा कर बोलो डर के आगे जीत है।
जीवन जीने को रोटी दी कपड़ा और मकान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।2।

मन्त्र तीसरा भीमा का है गीत ज्ञान के गाये जा।
शिक्षा दूध शेरनी का है पी पी कर गुर्राए जा।।
पढ़ लो लिखलो पा सकते हो सब कुछ पुस्तक कापी से।
जंग लगा ताला भी खोलो ज्ञानपुन्ज की चाबी से।।
सत्य तथ्य को किया उजागर सत्यभान का ज्ञान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।3।

ऊँच नीच के भेदभाव ने मानवता को कष्ट दिया।
छूत संक्रमण आम्बेडकर ने कर आक्रमण नष्ट किया।।
भेदभाव की दीवारों को सारे जग से तोड़ दिया।
मानव से मानव का रिश्ता मजबूती से जोड़ दिया।।
बने मसीहा शोषितों के जीने का अभिमान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।4।

लोकतंत्र में  लोगों को ही सबसे बढकर मन्त्र कहा।
जनता का जनता के खातिर जनता द्वारा तन्त्र कहा।।
अनुसूचित जाति जनजाति पिछड़ों का भी रक्षण हो।
अगडे पिछड़े की खाई को भरने को आरक्षण हो।।
सबको सबका हक मिल जाये ऐसा विधि विधान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।5।

सघन यातना और पीड़ा ने भीमराव को बड़ा किया।
छिने हुए अधिकारों को पाने के खातिर खड़ा किया।।
अनाचार अन्याय मिटाने आजीवन संकल्प लिया।
आने वाली पीढ़ी को जीने का नया विकल्प दिया।।
समता समरसता का नायक बनकर नया विहान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।6।

कैसे रहना कैसे चलना कैसे खाना चाहिए।
अपने जीवन में अनुशासन कैसे पाना चाहिए।।
मन्त्र फूंक कर तर्क शक्ति का अंध भक्ति से मुक्त किया।
भेद बता कर गूढ़ सूक्ति का नवल युक्ति संयुक्त किया।।
रीति नीति बहुजन के हित हो इसके ऊपर ध्यान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।7।

विषमजाल को चीरफाड़ कर नवयुग का आरम्भ किया।
चूर चूर दर्पण दिखलाकर अभिमानी का दम्भ किया।।
स्वार्थसिध्द करने वाले जो दूषित मन को जान लिया।
सावधान! कह कर के उनके षड्यंत्रों की जान लिया।।
भरी दोपहरी अंधकार के पाखंड को पहचान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।8।

दर्शन से जिनके ग्रन्थों के पीढ़ी भी सुख पाती है।
वाणी जिनकी भटके जनमानस को राह बताती है।।
चरण आचरण के कारण ही जग में पूजे जाते है।
वन्दन अभिनन्दन जन जन से मन से महिमा पाते है।।
जिनकी दीया और बाती ने रोशन “सरल” जहान दिया।
भीमराव बाबा साहब ने, देश को संविधान दिया।9।

– कवि साहेबलाल “सरल”

Share this:
Author
साहेबलाल 'सरल'
संक्षेप परिचय *अभिव्यक्ति भावों की" कविता संग्रह का प्रकाशन सन 2011 *'रानी अवंती बाई की वीरगाथा' की आडियो का विभिन्न मंचो में प्रयोग। *'शौचालय बनवा लो' गीत की ऑडियो रिकार्डिंग बेहद चर्चित। *अनेको रचनाएं देश की नामचीन पत्र पत्रिकाओं में... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you