Skip to content

“बाबाजी का ठुल्लू “(हास्य व्यंग)

ramprasad lilhare

ramprasad lilhare

कविता

March 12, 2017

“बाबाजी का ठुल्लू ”
(हास्य व्यंग ”
मैने एक भाषण प्रतियोगिता में भाग लिया।
और खूब जोर जोर से भाषण दिया।
भाषण देते हुए मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।
और मेरे भाषण को लोगों द्वारा खूब सराहा जा रहा था।
मुझे ही नहीं मेरे भाषण को सुनकर लोगों को भी मजा आ रहा था।
और सारा का सारा हुज़ुम ताली बजा रहा था।
तालियों की गड़गड़ाहट पाकर मेरा हौसला बड़ा।
मैं मंच पर चार कदम आगे बढ़ा।
मैने धीरे धीरे अपने भाषण की आवाज़ बढ़ाई।
मैने देखा मेरा भाषण लूट रहा था खूब वाहवाही।
कुछ समय पश्चात मैं हो गया शांत।
क्योंकि मेरे भाषण का हो गया देहांत।
मेरे बाद सभी प्रतिभागीओ ने अपना अपना भाषण सुनाया।
सभी के भाषण को सुनकर बहुत मज़ा आया।
सभी ने अपने भाषण के लिए खूब तालियां पायी
सभी के भाषण ने लूटी खूब वाहवाही।
पर,जैसे घड़ी परिणाम की आयी। सबके चेहरों पर मायूसी छायी। जैसे ही परिणाम सुनाया।
मेरा पहला नंबर आया।
पहला नंबर पाकर के मैं खुशियों में झूम रहा था।
पैर जमीं पर नहीं थे मेरे मैं आसमां में घूम रहा था
पहला नंबर पाकर के बहुत मज़ा आ रहा था।
और पहला नंबर पाकर के मैं फूला नहीं समा रहा था।
मेरी सारी की सारी खुशियां उस समय मिट्टी में मिली।
जिस समय ईनाम की पोटली खुली।
ईनाम पाकर के मैं बन गया था उल्लू।
क्योंकि ईनाम में मिला था मुझको “बाबाजी का ठुल्लू “।

रामप्रसाद लिल्हारे
“मीना “

Author
ramprasad lilhare
रामप्रसाद लिल्हारे "मीना "चिखला तहसील किरनापुर जिला बालाघाट म.प्र। हास्य व्यंग्य कवि पसंदीदा छंद -दोहा, कुण्डलियाँ सभी प्रकार की कविता, शेर, हास्य व्यंग्य लिखना पसंद वर्तमान में शास उच्च माध्यमिक विद्यालय माटे किरनापुर में शिक्षक के पद पर कार्यरत। शिक्षा... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल: मज़ा आ गया ।
ग़ज़ल: मज़ा आ गया // दिनेश एल० “जैहिंद” ग़म जहाँ से छिपाया मज़ा आ गया, गीत खुशी_का गाया मज़ा आ गया । खुद रोया_और लोगों... Read more
अड़चन
लोगों को राह में रोडा अटकाने में ही बहुत मजा आता है और मुझ को उन अड़चन को राह से हटाने में मजा आता है... Read more
"अरमानों का देहांत " (हास्य व्यंग कविता) एक थी लड़की खड़ी अकेली मेरे लिए थी नयी नवेली। मिठी सी थी उसकी बोली उसकी सूरत थी... Read more
"अरमानों का देहांत " (हास्य व्यंग कविता) एक थी लड़की खड़ी अकेली मेरे लिए थी नयी नवेली। मिठी सी थी उसकी बोली उसकी सूरत थी... Read more