.
Skip to content

बाधायें भी हार मान ले, आगे बढ़ते जाना है

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

गीत

June 10, 2017

मुश्किल कितनी भी आ जाये, तुमको ना घबराना है
बाधायें भी हार मान ले, आगे बढ़ते जाना है

मन हारा तो जग हारे तुम
मन से हार नहीं जाना
जब तक हिम्मत है लड़ना तुम
मन की ताकत दिखलाना
पंख हौसलों के ले साथी, अम्बर उड़ते जाना है
बाधायें भी हार मान ले, आगे बढ़ते जाना है

कभी विपत्ति जो आ जाये
हिम्मत रख आगे बढ़ना
रात के बाद ही दिन होता है
सूरज बन फिर से उगना
आशाओं के दीप जलाकर, तम को हरते जाना है
बाधायें भी हार मान ले, आगे बढ़ते जाना है

हार मिले तो सीख मिलेगी
राह नई फिर भी दिखती
कोशिश तब तक करते रहना
जब तक जीत नहीं मिलती
मेहनत से सुन सारे सपने, पूरे करते जाना है
बाधायें भी हार मान ले, आगे बढ़ते जाना है

कभी थको तो हार न जाना
सही राह चलते जाना
बीच भँवर में फँसी हो नैया
लहरों से टकरा जाना
हारी बाज़ी जीत के साथी, विजयी बनते जाना है
बाधायें भी हार मान ले, आगे बढ़ते जाना है

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
बैतूल

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
कान्हा तुम आ फिर से जाना
कान्हा तुम आ फिर से जाना चित्त चुरा कर फिर ले जाना बाँसुरी बजा कर मधुर मधुर उर में आज समाते जाना बन राधा प्रीत... Read more
वक़्त मिले तो आ जाना  वक़्त मिले तो आ जाना  वक़्त मिले तो आ जाना
कैसी बेबसी है तेरे बिन रह तो रहा हु पर रह नही पता नींद तो आती है पर सो नही पता इस उंलझन को सुलझा... Read more
हमकों नहीं घबराना होगा
हमकों नहीं घबराना होगा। नदी की बहती धारा जैसे, हमको बढ़ते जाना होगा आंधी,तूफाँ,बरसातों से भी नही हमको घबराना होगा। अटल खड़े पहाड़ो है,जैसे निर्भिक... Read more
पीछे मुड़ कर कभी न देखो
पीछे मुड़ कर कभी न देखो, आगे ही तुम बढ़ते जाना, उज्वल ‘कल’ है तुम्हें बनाना, वर्तमान ना व्यर्थ गँवाना। संधर्ष आज तुमको करना है,... Read more