Jul 4, 2016 · गीत
Reading time: 1 minute

बादल

झूम झूम जब छाते बादल
जल कितना बरसाते बादल

हो जाता है तन मन हर्षित
घर घर खुशियाँ लाते बादल

आसमान में उड़ते जाते
मन को खूब लुभाते बादल

मस्त मगन हैं संग पवन के
क्या क्या रूप दिखाते बादल

वृक्ष वनों में शोर मचाते
उनको गले लगाते बादल

ओजोन परत छेदी मानव ने
इसीलिए फट जाते बादल

रुष्ट हुई है प्यासी धरती
आकर उसे मनाते बादल

सूरज डर कर छुप जाता है
उसको खूब डराते बादल

नाच रहे हैं मोर वनों में
मधुरिम गीत सुनाते बादल

सरल प्रेम की बूंदे भरकर
हम पर खूब गिराते बादल

1 Like · 1 Comment · 30 Views
Copy link to share
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन... View full profile
You may also like: