बात बिगड़ जाएगी

शीर्षक-बात बिगड़ जाएगी

रौद्र रूप में न आओ,
बात को न उलझाओ ।
आ जाऊं ताव में तो,
बात बिगड़ जाएगी।
गढ़े मुर्दे को न उखाड़ो,
होशयारी ज्यादा न झाड़ो।
आ जाऊं ताव में तो,
बात बिगड़ जाएगी।
मेरी बात को न काटो,
दिमाग़ को न चाटो।
आ जाऊं ताव में तो,
बात बिगड़ जाएगी।
बस करो चुप हो जाओ,
ज्यादा बकबक न करो
आ जाऊं ताव में तो,
बात बिगड़ जाएगी।
~~~~~~~~~~~~
रचनाकार डीजेन्द्र क़ुर्रे “कोहिनूर”
पीपरभवना,बलौदाबाजार(छ.ग.)
मो. 8120587822

Like 1 Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share