बात गर सच है तो ताईद का मतलब क्या है।

बात गर सच है तो ताईद का मतलब क्या है।
झूठे लोगों से यूँ उम्मीद का मतलब क्या है।।
बात कोई भी हो जब फ़र्क़ नहीं है उन पर।
फिर उसी बात पे ताकीद का मतलब क्या है।।
कोई रिश्ता ही नहीं चाहते जब वो मुझसे।
टूटे फिर रिश्ते को तजदीद का मतलब क्या है।।
चाँद के दीद से हासिल न हमें कुछ होगा।
हम ग़रीबों के लिए ईद का मतलब क्या है।।
एक गुमनाम सा साया हूँ ‘अकेला’ मैं तो।
आपका यूँ मेरा तक़लीद का मतलब क्या है।।
अकेला इलाहाबादी
ताईद- स्पष्टीकरण
ताकीद- ज़ोर, चेतावनी
तजदीद- जीर्णोद्धार
तक़लीद- पीछा करना

30 Views
मैं न ग़ालिब हूँ, न हूँ मैं मीर , ना ही फैज़ हूँ | मैं...
You may also like: