** बात क्या है दीवाने **

नैनो के काजल पर मर गये,
या लाली पर मिट गये दीवाने |
तृष्णा तुम्हारी जाग्रत हो गई ,
या तन पर लुट गये दवाने ।
प्रेम मुझसे इतना करते ,
बात क्या है दीवाने ।।1।।

बहन तुम्हारू सी काया ,
मेरी भी है दीवाने ।
नजरे तुम्हारी फिर भी मुझको,
ही क्यो घूरे दीवाने ।
प्रेम मुझसे इतना करते,
बात क्या है दीवाने ।।2।।

गली चौराहे और सडको पर ,
तुम नित मिल जाते दीवाने।
घबराती सी फिरती मै ,
लाज बचाती दीवाने।
प्रेम मुझसे इतना करते,
बात क्या है दीवाने।।3।।

तुम तो मेरे प्रियतम थे,
फिर खिलवाड किया क्यो दीवाने।
एसिड मुझ पर डाल कर ,
मुझे बर्बाद किया क्यो दीवाने।
प्रेम मुझसे इतना करते ,
बात क्या है दीवाने।।4।।

अर्धांगनी तुम्हारी हूँ,
जीवन तुमको अर्पण दीवाने।
नित्य नयी हिंसा करते हो,
फिर क्यो मुझ पर दीवाने।
प्रेम मुझसे इतना करते,
बात क्या है दीवाने।।5।।

पूजू की कलम से ✒

6 Likes · 3 Comments · 323 Views
College student श्रंगार रस की कवियित्री महिलाओं तथा लडकियों के अधिकार तथा उनकी दुविधाओं पर...
You may also like: