.
Skip to content

बांच लो पाती नयन की…..

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कविता

January 31, 2017

बिन तुम्हारे जो गुजारी,
रैन ‘बेचारी’ विरहन की।
शब्द वर्णन को नहीं हैं,
बांच लो पाती नयन की।।

स्वांस का आवागमन भी,
जब दुरूह लगने लगे।
रंग सब बेरंग-केवल,
बोझ रूह लगने लगे।
मान लो पतझड़ अवस्था,
हो चुकी जैसे चमन की।
बांच लो पाती नयन की।।

पुष्प बिन खुशबू अधूरे,
बिन कली मधुकर फिरें।
आगमन ‘मधुमास’ हो,
झर-झरके झरने निर्झरें।
लौट आए पहले-सी ही,
सीरत मन-उपवन की।
बांच लो पाती नयन की।।

फिर मुझे पहले-सी ,
प्रीतम प्रीत देदो।
हार के सब वार दूँ,
वह जीत देदो।
फिर सदा बन के रहूँ,
दासी चरन की।
बांच लो पाती नयन की।।

मन-मगन मनुहार,
करता है समर्पण।
अब पिया-सब कुछ,
करूं तुझको मैं अर्पण।
मेरे हिरदे में महक,
भर दो सुमन की।
बांच लो पाती नयन की।।

हे पिया!सह-भाव,
अंगीकार कर लो।
अपनी वामांगी मुझे,
स्वीकार कर लो ।
हो रहूँ साक्षी सदा,
हिरदय-हवन की।
बांच लो पाती नयन की।।

आपके ही “तेज” से,
महके मेरा मन।
हो समर्पित आपको,
तन,मन-ओ जीवन।
एक-कर दूरी मिटा दो,
देह-तन की।
बांच लो पाती नयन की।।

रचना : तेजवीर सिंह ‘तेज’

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
मुस्कुराना सीख लो
रिश्ते बनाना सीख लो, रिश्ते निभाना सीख लो खुशियाँ अगर हो चाहते, तो मुस्कुराना सीख लो चलते चलो रुकना नहीं, हो दूर ये मंजिल भले... Read more
पहले ही पन्ने अब................ “मनोज कुमार”
खबर आयी है क आने लगे आने लगे हैं अब नयन से वो ही अब दिल में उतर आने लगे हैं अब खबर छप ही... Read more
[[ इश्क़  में  जब  दूरियाँ  तुमको  कभी  लगने  लगे ]]
? ग़ज़ल इश्क़ में जब दूरियाँ तुमको कभी लगने लगे आँसुओ की धार जब तुमको नदी लगने लगे [[[[[[[[[[[[[[[[[}:::::::::::::::::::::::::::::::::::::]]]]]]]]]]]]]]]]]]]} मान लेना हो गया है प्यार... Read more
मनुज में है असीम सामर्थ्य, समझ लो लगे लोक हित अर्थ !************************
सामर्थ्य / क्षमता मनुज में है असीम सामर्थ्य, समझ लो लगे लोक हित अर्थ !************************ लक्ष्य बिन शक्ति रहे निरुपाय विचरते जीव अधम असहाय, शक्ति... Read more