.
Skip to content

बाँसुरी

mahesh jain jyoti

mahesh jain jyoti

घनाक्षरी

July 22, 2017

* बाँसुरी *
——–
ब्रजभाषा में छंद
————
जबहु निहारी कभी श्याम की सलौनी छवि ,
मन मेरौ श्याम की लुभाय गयी बाँसुरी ।
जब ते सुनीयै तान तन कौ रहे न ध्यान ,
मिसरी सी कानन घुराय गयी बाँसुरी ।
सोह रही ओठन पै प्यारे मनमोहना के ,
चुप मन बैरन चुराय गयी बाँसुरी ।
‘ज्योति’ कहै बाँसुरी की तान में बसी है जान,
राधे नाम श्याम की सुनाय गयी बाँसुरी ।।

ऐ री दादी ! पतरी सी बाँस की लकड़िया सी ,
कौन तोकूँ सुघड़ बनाय गयी बाँसुरी ?
छैंदन में तेरे जानै भेद कहा रोप दिये ,
कौन तोमैं औगुन भराय गयी बाँसुरी ?
काहे श्यामसुंदर के हाथन में परि गयी ,
कौन अधरन पै धराय गयी बाँसुरी ?
‘ज्योति’ कहै काहे तोमैं राधिका कौ नाम बसै ,
काहे श्याम इतनी सुहाय गयी बाँसुरी ?

महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
***

Author
mahesh jain jyoti
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ जो सत्य की खोज में चला जा रहा है अपने लक्ष्य की ओर , गीत गाते हुए, कविता कहते और छंद की उपासना करते हुए... Read more
Recommended Posts
[[ प्रेम की अब बाँसुरी  लेकर  चले  कान्हा  ]]
प्रेम की अब बाँसुरी लेकर चले कान्हा ,! प्रेम की इस तान पर हम मर मिटे कान्हा ,!! प्रेम का रिश्ता बनाया,सँग तुम्हारे दिल से... Read more
क्या कहूँ अब तुमसे.......... तेरी हो गयी |गीत| “मनोज कुमार”
क्या कहूँ अब तुमसे तो ये रूह दीवानी हो गयी मीरा सी दीवानी ये दीवानी तेरी हो गयी क्या कहूँ अब तुमसे.......................................... तेरी हो गयी... Read more
"मनभावन (मुकरी छंद) रूप सलौना खूब सजाते श्याम भ्रमर मन को अति भाते स्वप्न दिखाकर जागे रैना ए सखि साजन?ना सखि नैना! अधरों पर बैठी... Read more
शेर
बाँसुरी तेरे होंठो से लग कर...सुर जो प्यार का निकाला हैं, तेरे हाथों ने जब छुआ बाँसुरी को...प्यार का धुन बजाया हैं,, कवि बेदर्दी