.
Skip to content

बहू भी बेटी ही होती है

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

लेख

March 21, 2017

” बहू भी बेटी ही होती है ”
————————————

“नारी” विधाता की सर्वोत्तम और नायाब सृष्टि है | नारी की सूरत और सीरत की पराकाष्ठा और उसकी गहनता को मापना दुष्कर ही नहीं अपितु नामुमकिन है | साहित्य जगत में नारी के विविध स्वरूपों का न केवल बाह्य , अपितु अंतर्मन के गूढ़तम सौन्दर्य का बखान अनेक साहित्यकारों ने किया है | नारी, प्रकृति द्वारा प्रदत्त अद्भुत ‘पवित्र साध्य’ है ,जिसे महसूस करने के लिए ‘पवित्र साधन’ का होना जरूरी है | इसकी न तो कोई सरहद है और ना ही कोई छोर ! यह तो एक विराट स्वरूप है,जिसके आगे स्वयं विधाता भी नतमस्तक होता है | यह ‘अमृत-वरदान’ होने के साथ-साथ ‘दिव्य औषधि’ है | नारी ही वह सौंधी मिट्टी की महक है जो जीवन बगिया को महकाती है | नारी के लिए यह कहा जाए कि यह- “विविधता में एकता है” …तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी | क्यों नारी के विविध रूप हैं | यह दादी , नानी , माँ ,बेटी , बहिन , बुआ, काकी ,ताई ,ननद ,भाभी ,देवरानी जेठानी इत्यादि कई स्वरूपों में अपना अस्तित्व बनाए हुए है | इन्हीं स्वरूपों में एक कर्तव्य की प्रतिमूर्ति और कर्मठता की देवी के रूप में “बहू” का अस्तित्व बहुत ही विराट स्वरूप वाला है | बहू ही है जो सम्पूर्ण परिवार की रीढ़ बनकर उसका संचालन करती है | वह ना थकती है ,ना बहकती है | बस ! निभाती जाती है अपनी सारी जिम्मेदारी और बिखेरती है उज्ज्वल छटा , घर के हर कोने में | उसी के दम पर घर स्वर्णिम एहसासों का मंदिर और धरती पर स्वर्ग के रूप में होता है | मगर क्या बहू बेटी है ? या फिर बहू , बहू ही होती है ! यह विषय बड़ा ही विकट और सोचनीय है | यदि हम सिंधुघाटी सभ्यता में झांक कर देखें तो हमें यही दृष्टिगोचर होता है कि बहू मातृशक्ति का ही एक सशक्त स्वरूप था | यही कारण रहा कि उस समय का समाज मातृसत्तात्मक था | बहू का यह स्वरूप वैदिक काल से होता हुआ विविध कालिक भ्रमण के द्वारा वर्तमान में पहुँचा है |
हम यह देखते हैं कि समाज में “विवाह संस्कार” के द्वारा ‘बेटी’ का स्वरूप ‘बहू’ के रूप में परिणित हो जाता है | जैसे ही यह स्वरूप बदलता है , कुछ मायने भी बदलते है | ये बदलाव बेटी में सकारात्मक दिशा में होते है क्यों कि वह अब बेटी से बहू के जिम्मेदारी पूर्ण ओहदे पर पहुँच चुकी होती है | उसके लिए सारा परिवेश नयापन लिए हुए होता है | फिर भी वह उस परिवेश में अपने को ढालती हुई अपना कर्तव्य सुनिश्चित करते हुए जिम्मेदारियों का निर्वहन बड़ी सहजता से करती है | पराये परिवार को अपना बनाने हेतु उसे बहुत सी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है | आमतौर पर देखा जाता है कि बहू आते ही सास अपनी जिम्मेदारी से निवृत हो जाया करती हैं | हमारे समाज में भूतपूर्व दादी-नानी बहू को सिर्फ बहू के रूप में देखा करती थी | उनके लिए बहू काम करने की और वंश चलाने की एक मशीन होती थी | उस वक्त सास का एकछत्र राज चलता था और बहू उनके हर आदेश को सिरोधार्य माना करती थी | उस समय बहू सिर्फ बहू ही होती थी , कभी उसे बेटी मानने का प्रयास तक नहीं किया गया | बेटी मानना तो दूर , उसे बेटी की तरह मानना भी उनकी सोच में नहीं रहा | परन्तु आज वक्त बदला है …….. क्यों की उस समय की बहू आज सास के पद पर सुशोभित हैं | जो समझती है कि बहू का दर्द क्या होता है | बहू ही तो है , जो खुद को भूलकर परिवार को सतत् क्रियाशील रखती है और परिवार की खुशी के लिए अपनी हर खुशी बलिदान कर देती है | आज बहू को बहू मानने वाले लोगों की गिनती नगण्य है क्यों कि बेटी ही बहू बनती है | अब हर सास यह चाहने लगी है कि मेरी बहू केवल बहू नहीं बल्कि मेरी बेटी भी है | इसी परिवर्तन के कारण बहू की शान में चार चाँद लग चुके हैं | यदि चिंतन किया जाए ,तो यह जाहिर होता है कि तनाव घर की कब्र होता है और खुशियाँ घर का बाग ! अत : परिवार में खुशियों के लिए जरूरी भी है कि बहू को बेटी की तरह माना जाए | यदि बहू को बेटी के समान माना जाता है तो बहू की भी जिम्मेदारी हो जाती है कि वह बहू और बेटी दोनों का फर्ज अदा करे | परन्तु अफसोस !!!! आज सास तो सास नहीं रही क्यों कि उन्होंने सास को झेला था | परन्तु बहू , बहू ना रही | हाँ अपवाद हर जगह होते हैं ! लेकिन सत्य यह है कि आज के दौर में बेटियाँ पढ़-लिखकर आगे तो बढ़ चुकी हैं लेकिन जब बहू बनती हैं तो लगभग 70 फीसदी बहुऐं , बहूू की जिम्मेदारी नहीं निभा पाती | आज बहू नारी शक्ति के रूप में सशक्त तो हुई है परन्तु व्यक्तिगत आकलन करें तो वैचारिक और शारीरिक रूप से कमजोर हुई हैं | जो कि उन्हीं के लिए घातक है | खैर जो भी है पर नारी गरिमा को बनाए रखने के लिए बहू को बहू बनना ही पड़ेगा तभी वो बहू के नाम को सार्थक कर सकती हैं |
बहू भी बेटी की तरह होती है ….. यह बात बिल्कुल सही और सार्थक है | यदि हम कहें कि — बहू भी बेटी ही होती है , तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी | क्यों कि यह विचार अपनाने से न केवल परिवार में समृधि और खुशहाली रहेगी अपितु समाज को भी एक नई दिशा मिलेगी जो सम्पूर्ण मानव जाति के लिए हितकर है | बहू भी बेटी ही होती है….इस विचार का मनोवैज्ञानिक असर भी बहू के व्यक्तित्व पर अपनी अमिट छाप छोड़ेगा |

बहू-बहू ना तुम करो , बहू सुता का रूप |
शीतल छाँव बहू बने ,जब हो गम की धूप ||

—————————–
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

                 

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
*साक्षात् शक्ति का रूप है नारी*
Neelam Ji कविता Jun 22, 2017
कभी माँ तो कभी पत्नी है नारी , कभी बहन तो कभी बेटी है नारी । मत समझना नारी को कमजोर , साक्षात् शक्ति का... Read more
नारी शक्ति
????? श्रेष्ठतम संस्कारों से परिष्कृत है नारी। सतत् जाग्रत और सहज समर्पित है नारी। ? जीवन-शक्ति की संरचना करने वाली है नारी। आदिरूपा,आदिशक्ति,महामाया,काली है नारी।... Read more
*=* नारी शक्ति को समर्पित *=*
नारी न कहिए उसको बेचारी। नही है बेबस न कोई लाचारी। पुरुष को देना छोडो़ दोष। वह नहीं है अत्याचारी। बुराई तो छिपी है खुद... Read more
मत कर नारी का अपमान
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान। है समृद्ध संस्‍कृति नारी से, ऐ ! नादान।। कुल देवी, कुल की रक्षक, कुल गौरव है।... Read more