.
Skip to content

बहुत दिन बाद मैं अपने शहर से गाँव आया हूँ ।

Kavi DrPatel

Kavi DrPatel

कविता

May 16, 2016

? शुभ संध्या ?
? प्रिय मित्रों ?
सहित्यपेडिया में आकर ऐसा लगा जैसे……
??????????????????
बहुत दिन बाद मैं अपने , शहर से गाँव आया हूँ ।

जन्मभूमि यही मेरी , मैं छूने पाँव आया हूँ ।

यहाँ पर माँ की यादें हैं , यहीं बचपन मेरा गुजरा,

पुराना है अभी बरगद , उसी की छाँव आया हूँ ।
??????????????????

? वीर पटेल ?

Author
Kavi DrPatel
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता ,गीत , दोहे , छंद, मुक्तक ,गजल , द्वारा सामाजिक व ऐतिहासिक भावपूर्ण सृजन से समाज में जन जागरण करना
Recommended Posts
मैं इश्क करने आया हूँ ।
Govind Kurmi शेर Dec 8, 2016
इसारा कर ऐ जिंदगी, मैं कुर्बान होने आया हूँ । नफरत भरे दिल में, वफ़ा का तोहफ़ा लाया हूँ । भुला सके तो भुला मुझे,... Read more
अश्क़ आज आँखों में भर कर आया हूँ
देख आज भी कहाँ तुझे मैं भूल पाया हूँ अश्क़ आज आँखों में भर कर आया हूँ आज भी आरज़ू है तुझे पाने की मैं... Read more
राहें माँ देख रही होगी
चाहत में थोड़े पैसे की गाँव मैं छोड़ आया हूँ मिट्टी की सौंधी खुशबू से बंधने तोड़ आया हूँ राहें माँ देख रही होगी छाँव... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more