May 16, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

बहुत दिन बाद मैं अपने शहर से गाँव आया हूँ ।

? शुभ संध्या ?
? प्रिय मित्रों ?
सहित्यपेडिया में आकर ऐसा लगा जैसे……
??????????????????
बहुत दिन बाद मैं अपने , शहर से गाँव आया हूँ ।

जन्मभूमि यही मेरी , मैं छूने पाँव आया हूँ ।

यहाँ पर माँ की यादें हैं , यहीं बचपन मेरा गुजरा,

पुराना है अभी बरगद , उसी की छाँव आया हूँ ।
??????????????????

? वीर पटेल ?

3 Comments · 96 Views
Copy link to share
Kavi DrPatel
Kavi DrPatel
25 Posts · 1.6k Views
Follow 1 Follower
मैं कवि डॉ. वीर पटेल नगर पंचायत ऊगू जनपद उन्नाव (उ.प्र.) स्वतन्त्र लेखन हिंदी कविता... View full profile
You may also like: