बहती हवा का प्रश्न

एक ग़ज़ल
*******
★★★
रोशनी आँखों की खुद ही धुंध में खोता चला।
आदमी हर आदमी बस धुंध ही बोता चला।।
★★★
बात हर वह जानकर भी बात को समझे नहीं।
मौत का सामान लेकर साथ में सोता चला।।
★★★
इक दिया उम्मीद का ही रातभर जल क्या करे ?
जब सुबह का सूर्य ही हो तम को ले ढोता चला।।
★★★
मैं, गगन में उड़ रहे उन पंछियों से क्या कहूँ ?
यह गगन को कौन औ क्यूँ आज है धोता चला।।
★★★
चाँद भी घबरा रहा, अब हरकतों को देखकर।
इस जहाँ से आदमी का प्रेम अब रीता चला।।
★★★
भाव अब कम बन रहे सीमित हुए हर दायरे।
फँस भँवर के जाल में मनमीत हर रोता चला।।
★★★
क्यूँ रखे हो सरहदें , बहती हवा का प्रश्न #जय ?
जब यहाँ हर मुल्क में, हर पाप है होता चला।।
★★★
#कलम_से

संतोष बरमैया#जय

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share