कविता · Reading time: 1 minute

— बहकावे में मत आना —

अक्सर हम हिन्दू लोग
जल्द बहकावे में आ जाते हैं
सोचते समझते कुछ नही
दूसरे की बातों में खो जाते हैं !!

कष्ट किस को नही आते
हम हिन्दू जल्द बहक जाते हैं
लेकर जन्मपत्रिका हाथों में
पंडित के पास चले जाते हैं !!

मौके का फायदा सब उठाते
पंडित झांसे में ले फसाते हैं
आ गया बेवक़ूफ़ मेरे सामने
अनगिनत उपाय उस को बताते हैं !!

यह भी कर लो, वो भी कर लो
बताकर अपनी धनवर्षा बढाते हैं
सामने वाले के बस में है, कि नही
पर पंडित अपनी जेब भर जाते हैं !!

कहेगा पंडित मुझ को कोई लालच नही
पर आँख तुम्हारी जेब पर गड़ाते हैं
पंडित के एक एक मन्त्र की कीमत
हिन्दू होकर हम हिन्दू की जेब भर आते हैं !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

1 Like · 2 Comments · 149 Views
Like
You may also like:
Loading...