Skip to content

बस क़लम वही रच जाती है…

अरविन्द दाँगी

अरविन्द दाँगी "विकल"

कविता

May 25, 2017

रस-छंद-अलंकारों की भाषा मुझको समझ नही आती है…
जो होता है घटित सामने बस क़लम वही रच जाती है…
माँ की ममता को देख क़लम ममत्वमयी बन जाती है…
और पिता का विस्तार देख कर्तव्य पितृ यह रच जाती है…
बहन का स्नेह कभी यह रेशम की डोरी सा रच जाती है…
भाई का निश्छल प्रेम कभी यह राम-भरत सा रच जाती है…

जब देखता व्याकुल मन तो विकल क़लम यह बन जाती है…
जब देखता भूखा कोई तो यथास्थिति यह कह जाती है…
अनाथालय-वृद्धाश्रम अलग देख टिस मन की कह जाती है…
बड़े लोगो की देख नीचता शर्म मानवता रच जाती है…
छोटे तबकों का देख बड़प्पन गर्व से फूली जाती है…
भेदभाव की राजनीति पर कुठाराघात तभी कर जाती है…

आरक्षण की बेड़ियो पर भारती का क्रंदन गाती है…
नोटो से वोटों की खरीदी दुर्भाग्य भारत कह जाती है…
सत्ता में डूबी सरकार जगाने ओज़ यही रच जाती है…
हर साल चुनाव पर बर्बादी समय यथा लिख जाती है…
क्यो न होता इकसाथ चुनाव प्रश्न ज्वलन्त यह कर जाती है…
भारत को स्वर्णिम बनाने आक्रोशित स्वयं यह हो जाती है…

काश्मीर की पत्थरबाजी घाव क़लम यह कह जाती है…
सैनिक के गाल तमाचा क्रोधित अंदर तक हो जाती है…
नापाक पड़ोसी की मानवता शर्मसार यही लिख जाती है…
वीरों के शव से छेड़छाड़ क्रूरता उसकी बतला जाती है…
नन्हे हाथों में थमा पत्थर अलगावी रोटी जब सेकीं जाती है…
अपने ही घर में भेड़ियों की जाति इंगित कर जाती है…

हाँ नक्सल हमलों की बर्बरता खूं से यह रच जाती है…
हद मानवता की पार उन्होंने शब्द-शब्द यह रच जाती है…
उन वहशी पिशाचो की निर्ममता अक्षर-अक्षर रच जाती है…
पर वीरों ने खाई सीने पर गोली गर्वित उनको बतला जाती है…
अंतिम साँस तक चली लड़ाई सजीव घटना रच जाती है…
पाण्डव पुत्रो पर यह कौरव प्रहार षड्यंत्र सा कह जाती है…

काश्मीर और नक्सल पर जब मौन सरकार को पाती है…
घटना के घण्टों बाद बस कड़ी निंदा जब की जाती है…
तब सेना के स्वाभिमान को कटाक्ष सरकार पर कर जाती है…
सत्ता के मोह को त्याग राष्ट्र का धर्म उन्हें बतला जाती है…
स्वर्णिम भारत की तस्वीर उनके समक्ष फिर ले आती है…
सवा अरब आबादी का अभिमान उन्हें समझाती है…

क़लम मौन कब रहती है जीवटता अपनी रच जाती है…
राष्ट्रहित में अक्सर यह सत्ता से भी टकरा जाती है…
जब-जब मुंदती आँखे सरकारें सचेत उन्हें कर जाती है…
सेना की हर मुश्किल में साथ खड़ी यह हो जाती है…
माँ भारती का यशगान नित शब्दो से यह कर जाती है…
विश्वगुरु होगा फिर भारत संचार हृदय हर कर जाती है…

✍अरविन्द दाँगी “विकल”
०९१६५९१३७७३

Share this:
Author
अरविन्द दाँगी
जो बात हो दिल की वो कलम से कहता हूँ.... गर हो कोई ख़ामोशी...वो कलम से कहता हूँ... ✍अरविन्द दाँगी "विकल"

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you