.
Skip to content

जो करो तुम बस करो जी जान से

बसंत कुमार शर्मा

बसंत कुमार शर्मा

गज़ल/गीतिका

April 19, 2017

आपकी झोली भरेगी ज्ञान से.
यदि करोगे मित्रता विद्वान से.

हाथ फैलाना नहीं अपने कभी
हाथ ऊपर रख जियो बस शान से

है सुरक्षित देश का हर नागरिक,
सैनिकों के त्याग से बलिदान से

माफ़ करना ही लगा अच्छा हमें,
कब तलक करते गिला नादान से

लुट रहा था बीच चौराहे पर कोई,
लोग बस बैठे रहे अनजान से

नाम पर जिसके मिला, दुबला रहा,
और मोटे वो हुए अनुदान से

हर सफलता कोशिशों में है छुपी,
बस करो जो भी करो जी जान से

Author
बसंत कुमार शर्मा
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन
Recommended Posts
शहीद की पाती
मा भारती की पुकार है ये हे वीर सपूतों वार करो।। मातृभूमि की रक्षा हेतु न किसी आदेश का इंतज़ार करो बस वार करो वार... Read more
गज़ल
मेरे रहबर, मेरे मेहरम, सनम मुझ पर अहसान करो, मैं तूफानों का पाला हूँ, न मंजिल तुम आसान करो। जमीं हूँ मैं मुहब्बत की, न... Read more
उठो सैनिकों वार करो
????? ????? उठो सैनिकों वार करो, स्वयं युद्ध की रणनीति तैयार करो। दिल्ली के आदेशों का, अब ना वीरों तुम इन्तज़ार करो। थाम बागडोर हाथों... Read more
कविता: ?? मुस्क़राया करो??
मायूसी न तुम कभी,गले लगाया करो। ज़िन्दगी में हरपल,बस मुस्क़राया करो।। हर समस्या का हल,आज नहीं तो कल। कीमती मोती आँसू,व्यर्थ न बहाया करो।। तम... Read more