.
Skip to content

बसन्त के फूल

रकमिश सुल्तानपुरी

रकमिश सुल्तानपुरी

दोहे

February 21, 2017

फूल।पुष्प।प्रसून ।

सरसों उमड़ी खेत में, ,,,खिले बसन्ती फूल ।
तेरे मेरे प्यार का,,,,,,,,,,,, मौसम है अनुकूल ।।

परसो पनपे पात संग,,,,,, पावन पुष्प प्रसून ।
पुलकित हो प्रभात में , कम हो गया जुनून ।

सुख दुख कांटे फूल है ,कभी धूप सा छाव ।
बनी रहे समरूपता,, मरहम हो या घाव ।।

राम केश मिश्र

Author
रकमिश सुल्तानपुरी
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं ।... Read more
Recommended Posts
बात एक फूल से...!
फूल डाल का मुझसे बोला , मुझे तोड़ने वाले पहले ,सुन ले बात मेरे मनुआ की , फिर अर्पण कर लेना मुझको, तुम अपने भगवान... Read more
पुष्प.....
*********************पुष्प*************************** शरणागत हम शूल हुए....फ़िर भी तो इक फूल हुए खुशी-खुशी चुभन सही परहित को हम मशगूल हुए फ़िज़ा सुगन्धित पुलकित भंवरे सबको सुभाष किया... Read more
अंग्रेजी में फूल
जिनको चुभते थे कभी, हम भी बनकर शूल ! वही दे रहे आजकल, हमको प्रतिदिन फूल !! उनको कहना ठीक है, ..अंग्रेजी में फूल !... Read more
फूलों की बगिया
मदहोश दिवाना हुआ भंवर,अलि मधुकर है बवराया देख कोंपले​ बगिया में षटपद भृंगी होमंत्रमुग्ध भरमाया। भूला पुष्प सहेजें शूल,रहा कलियों पर भ्रमर वो झूल, खूब... Read more