बसंत

आकुल बसंत, ले प्रीति सुगंध,
व्याकुल बसंत में, सजनी कंत।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद,
पगडंडि यौवन की, प्रीत अनंत।

कुहू- कुहू कोयल के मधुर छंद,
मधुर बोल,सजन से उर जीवंत।
पीले सुमनों का पीकर मकरंद,
मिलते क्षितिज पार हैं आदी-अंत।
नीलम शर्मा ✍️

Like Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing