.
Skip to content

बसंत पर दोहा एकादश

Rajendra jain

Rajendra jain

दोहे

February 1, 2017

बसंत पर देखिए हमारा प्रयास….

दोहे-एकादश

शरद विदाई शुभ घड़ी,
ऋतु बसंत महकाय।
सुरभित सुमन सुवास नभ,
सुरमय कंठ सुहाय।।

रँग बसंती चूनरी,
देख सखी मुस्काय।
करधन नथ बेंदी सजी,
सजन हिये बस जाय।।

होली खेलन की घड़ी,
मन मे उठी तरंग।
अंग अंग पुलकित भए,
होली के सब.रंग।।

आम्र बोर की गंध से,
कोयल का सुरनाद।
वनचर मस्ती मे दिखें,
बछड़े बैठे माद।।

देखो फूल पलाश के,
फूल रहे चहुँओर।
धरा चँदोवा देखकर,
पंछी करते शोर।।

हँसी ठिठोली जब करें
देवर भाभी संग।
सतरंगी मन बन चला,
फागुन केशर रंग।।

रंग गुलावी मन बना,
चला खोजने प्रेम।
रंग गुलावी कर थमा,
मिले तभी रे प्रेम।।

तेरे अपने तो सभी,
पर सब अपने होय।
अपनेपन के भाव पर,
होली बिना न होंय।।

शब्द शब्द संगीत रे,
देख बसंती गान।
अपने पन का शोर भी,
अपनेपन का गान।।
१०
देखो तितली खुशी से,
उड़ती पंख पसार।
बंदर की टोली सजी,
अद्भुत उनका प्यार।।
११
बसंत संन्धी कर संत,
शब्द अर्थ सुविशाल।
निज से निज की प्रीति तब,
‘अनेकांत’खुशहाल।।

राजेन्द्र’अनेकांत’
बालाघाट दि.०१-०२-१७

Author
Rajendra jain
प्रकृति, पर्यावरण, जीव दया, सामाजिक चेतना,खेती और कृषक की व्यथा आदि विषयों पर दोहा, कुंडलिया,चोपाई,हाईकु आदि छंद बद्ध तथा छंद मुक्त रचना धर्मिता मे किंचित सहभागिता.....
Recommended Posts
दोहे-एकादश
बसंत(फागुन) पर देखिए हमारा प्रयास.... दोहे-एकादश शरद विदाई शुभ घड़ी, ऋतु बसंत महकाय। सुरभित सुमन सुवास नभ, सुरमय कंठ सुहाय।। २ रँग बसंती चूनरी, देख... Read more
आया बसंत सखी आया बसंत
आया बसंत सखी आया बसंत चहुँदिशि खुशियाँ लाया अनंत महक रहे हैं सभी दिग दिगंत झूमा अवनी का अंग प्रत्यंग आया बसंत सखी आया बसंत... Read more
होली खेलो यार मीत ,यह बात मैं दिल से करता हूं। रंग में भर के प्यार आज,दुनिया को रंग मैं रंगता हूं। प्रेम का आधार... Read more
सायली छंद (१, २, ३, २ ,१ ) *होली* उमंग रंग -बिरंगी तन-मन छाई प्यारी होली आई। बरसा टेसू रंग आँगना भीगी चोली खूब खेली... Read more