31.5k Members 51.9k Posts

बसंत की पछ्याणं | गढ़वाली घनाक्षरी | मोहित नेगी मुंतज़िर

Apr 11, 2020 01:00 PM

बसंत बहार आयी, डालूं मा मौलयार आयी
घोग्या देवता कु बनयु नयु नयु थान च ।
फ्यूंली जडया बुरांश,आड़ू पहियाँ का फूलों
खोजणा कु सारयूं सारयूं ,जांणी छोरों घाण चा ।
रंगमत दाना स्याणा, थडया चोंफला लगाणा
जीवन मा नै उमंगे , याहि त पछ्याणं चा।
बसंत पंचमी अर ,अठोडा की घोग्या पूजा
हिमवंत देश मा बसंत की पछ्याणं चा।

2 Views
Mohit Negi Muntazir
Mohit Negi Muntazir
Rudraprayag, Uttrakhand
25 Posts · 120 Views
मोहित नेगी मुंतज़िर एक कवि, शायर तथा लेखक हैं यह हिन्दी तथा उर्दू के साथ...
You may also like: