.
Skip to content

बल्देव छठ…..???

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

घनाक्षरी

August 27, 2017

?? ब्रज के राजा हलधर गदाधारी श्री दाऊजी महाराज के प्राकट्योत्सव की अनन्तानन्त बधाइयाँ ??
?????????

भाद्रपद शुभ मास
शुक्लपक्ष षष्ठी तिथि
ब्रज में उल्लास भयौ
जन्मे बलराम जी।

सप्तगर्भ देवकी के
रोहिणी को संकर्षण
योगमाया करि डारे
अद्भुत से काम जी।

शेषावतार अनंत
अंश कहे पुरानन
धारें हल-मूसल को
रेवती हैं वाम जी।

तेज’ हैं लड़ाके-मल्ल
गदाधारी जगश्रेष्ठ
दाऊ दादा आप *बल-
भद्र हो सुनाम जी।

??????????
?तेज मथुरा✍

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
ब्रज की रज
सवैया (ब्रज की रज) ब्रज के वन बाग तड़ाग हैं धन्य जहाँ जन्मे श्रीकृष्ण कन्हाई धन्य धरा वह धन्य कदंब जहाँ मुरली घनश्याम बजाई जो... Read more
जी” का काव्य में प्रयोग
‘ तुम आवाज दे बुलाते सूनो जी मैं जबाब देती जी कहती बोलो जी कितना प्रिय लगता जी कहना हाँ जी में जी मिलाना फिर... Read more
जी का काव्य में प्रयोग
तुम आवाज दे बुलाते सूनो जी मैं जबाब देती जी कहती बोलो जी कितना प्रिय लगता जी कहना हाँ जी में जी मिलाना फिर एक... Read more
पिया जी साँवरे
तुम सुनो मोरी, पिया जी साँवरे, दिल तुम्हें हमने, दिया जी साँवरे. जब से आया हूँ, मैं वृंदावन सुनो, खो गया मेरा, जिया जी साँवरे.... Read more