.
Skip to content

बलिदान शहीदों का बेकार नहीं होगा

आनंद बिहारी

आनंद बिहारी

गज़ल/गीतिका

September 30, 2016

हर बार हुआ जो भी इस बार नहीं होगा
बलिदान शहीदों का बेकार नहीं होगा।1।

जब तक बाहुबल का व्यवहार नहीं होगा
हो चीज भले अपनी,अधिकार नहीं होगा।2।

उनींदे शेरों को; उकसाते हो, सताते हो
गद्दार कोई भी हो, स्वीकार नहीं होगा।3।

तकरीरें नहीं करनी,तकरार नहीं करना
नापाक हरकतों पे एतबार नहीं होगा।4।

मित्र-बंधु सा रहता, ऐतराज़ नहीं कोई
पीठ पे करे वो वार, स्वीकार नहीं होगा।5।

चंद लोग हमारे थे, जिन्हें था यकीं कमतर
सरकार भरोसे की, वो लाचार नहीं होगा।6।

हिन्द की सेना ने घर में घुस प्रहार किया
समझदार पड़ोसी हो, तो राड़ नहीं होगा।7।

इस पार हो जाए या उस पार ही हो जाए
अब ताशकंद जैसा, मझधार नहीं होगा।8।

-आनंद बिहारी, चंडीगढ़
29.09.2016
WhatsApp:9878115857

Author
आनंद बिहारी
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान जन्म: 10 जुलाई 1976 को सारण (अब सिवान), बिहार में शिक्षा: B A (Hons), CAIIB (Financial Advising) लेखन विधा: गीत-गज़लें, Creative Writing etc प्रकाशन: रचनाएँ... Read more
Recommended Posts
देश भक्ति ग़ज़ल
221 1222 221 1222 ये खून खराबा अब स्वीकार नहीं होगा गर वार किया तुमने इंकार नहीं होगा ये बंद करो नाटक जो खेल रहे... Read more
ज्वार उठाना होगा, मस्तक कटाना होगा
महासमर की बेला है वीरों अब संधान करो, शत्रु को मर्दन करने को, त्वरित अनुसंधान करो | मातृभू की खातिर फिर लहू बहाना होगा; ज्वार... Read more
****   शेर  ******
23.1.17 रात्रि 10.5 बागे बुलबुल को अब मुस्कुराना ही होगा तुमसे मिलना अब रोज़ाना ही होगा।। अब बरखा हो कैसे बिन बादल आँखों से आंसुओ... Read more
पल पल अनमोल है जीवन म।
संयोग मे योग करो श्रम से सारा दुख पल मे हरण होगा कोशिश बस कोशिश बार बार सफलता का इस तरह वरण होगा केवल खाकर... Read more