.
Skip to content

बरहम सी ज़िन्दगी

विजय कुमार नामदेव

विजय कुमार नामदेव

गज़ल/गीतिका

April 14, 2017

बरहम सी जिंदगी है सँवार दो तो अच्छा है।
दर्द दिया ठीक किया करार दो तो अच्छा है।।

मैंने तुझसे जिंदगी में और क्या चाहा खुदा बस।
प्यार भरी जिंदगी को प्यार दो तो अच्छा है।।

मेरी क्या औकात आखिर तुझको दे पाऊं खुशी।
अपने अश्के गम मुझे तुम उधार दो तो अच्छा है।।

भूल जाना तेरा मेरी जिंदगी में लाजिमी था।
तुम भी मुझ को ए सनम अब वार दो तो अच्छा है।।

जन्म जन्मों का ये रिश्ता इक जन्म की बात क्या।
हर जनम में बेशरम सँग हर बार दो तो अच्छा है।।

Author
विजय कुमार नामदेव
सम्प्रति-अध्यापक शासकीय हाई स्कूल खैरुआ प्रकाशित कृतियां- गधा परेशान है, तृप्ति के तिनके, ख्वाब शशि के, मेरी तुम संपर्क- प्रतिभा कॉलोनी गाडरवारा मप्र चलित वार्ता- 09424750038
Recommended Posts
मेरे हमसफ़र
एक आहट सी होती है, तो लगता है कि तुम हो। कोई खिड़की कही खुलती है तो लगता है कि तुम हो।। हो नही रु-ब-रु... Read more
महसूस
तुम क्या जानो मेरे दिल को तुम्हारी कौन सी बात चूभ गई है, बेखबर सी रहती हो फुर्सत नहीं है किस कदर परेशान हूँ तुम्हारी... Read more
सबब-ए-जिंदगी
मेरी तन्हाइयो का सबब बन रही है जिंदगी, कुछ ख़बर नहीं क्या बन रही है जिंदगी, बदहाली है न मायूसी है कोई, फिर भी बोझ... Read more
क्यों बिन तेरे जिंदगी सुनी सी है/मंदीप
क्यों बिन तुम्हारे जिंदगी सुनी सी है/मंदीप क्यों बिन तुम्हारे जिंदगी सुनी सी है, क्यों आज आँखो में नमी सी है। तरस गए दिलबर देखने... Read more