Reading time: 1 minute

बरसे बरसे बरखा बरसे

बरसे बरसे बरखा बरसे,
पिया मिलन को जिया तरसे,

घनघोर बदरिया छायी रे,
जले बदन बरखा के जल से,

पुरज़ोर बिजुरिया भी है चमके,
सावन संग मेरे नैना भी बरसें,

कहीं कोई कोयलिया कु कु कूके,
चिढ़ होवे मुझे बहती सर्द हवा से,

छोड़ “मनी” सेवाई तू आजा रे,
संग तेरे झूमने को है मन तरसे,
तू आजा रे….

1 Like · 78 Views
Copy link to share
MANINDER SINGH
5 Posts · 1.4k Views
मेरा नाम मनिंदर सिंह है | साहित्य के क्षेत्र में मुझे लोग मनिंदर सिंह "मनी"... View full profile
You may also like: