.
Skip to content

** बन न जाए दास्ताँ **

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

July 24, 2017

जब रूह को रूह से होगा वास्ता ,
खुद ब खुद बन जाएगा रास्ता ।
अजनबी भी बन जाएगा अपना ,
शुरू हो जाएगी हसीन दास्ताँ ।।

तेरा मुझ से है जरूर कोई वास्ता ,
तभी तो मिलता है तेरा मेरा रास्ता ।
टकरा गए जो किसी मोड़ पर हम ,
बन न जाए तेरी मेरी दास्ताँ ।।

जाने कब तेरा मेरा पड़ जाए वास्ता ,
बन जाए दिल का दिल से रास्ता ।
भले ही आज अजनबी हैं हम ,
कौन जाने कब बन जाए दास्ताँ ।।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
बन रहे
☀ *बन रहे*? ये वक़्त के जख्म अब नासूर बन रहे है,,,, वो आज कल हमारे लिये हुजूर बन रहे है,,,, जो किया करते थे... Read more
न जाने किस घड़ी में ज़िंदगी की शाम हो जाए
जीवन के हर पल को खुलकर ही तुम जी लो, न जाने किस घड़ी में ज़िंदगी की शाम हो जाए। राह मुश्किल भी हो तो... Read more
मरमरी बदन तेरा धूप में न जल जाए
गैर तरही ग़ज़ल ******** 212 1222 212 1222 नाज़ हुस्न पे मत कर एक दिन ये ढल जाए आने-जाने वाला रुत पल में ही बदल... Read more
कोई ग़ाफ़िल कहाँ भला जाए
जी मेरा भी सुक़ून पा जाए तेरा जी भी जो मुझपे आ जाए काश आ जाऊँ तेरे दर पे मैं और वाँ मेरा गाम लड़खड़ा... Read more