Jul 24, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

** बन न जाए दास्ताँ **

जब रूह को रूह से होगा वास्ता ,
खुद ब खुद बन जाएगा रास्ता ।
अजनबी भी बन जाएगा अपना ,
शुरू हो जाएगी हसीन दास्ताँ ।।

तेरा मुझ से है जरूर कोई वास्ता ,
तभी तो मिलता है तेरा मेरा रास्ता ।
टकरा गए जो किसी मोड़ पर हम ,
बन न जाए तेरी मेरी दास्ताँ ।।

जाने कब तेरा मेरा पड़ जाए वास्ता ,
बन जाए दिल का दिल से रास्ता ।
भले ही आज अजनबी हैं हम ,
कौन जाने कब बन जाए दास्ताँ ।।

4 Likes · 2 Comments · 634 Views
Neelam Chaudhary
Neelam Chaudhary
110 Posts · 77.1k Views
Follow 41 Followers
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी... View full profile
You may also like: