Skip to content

बन्दरबांट

Rajeev 'Prakhar'

Rajeev 'Prakhar'

कविता

July 15, 2016

मित्रो, प्रस्तुत है मेरी एक पुरानी व्यंग्य रचना, शीर्षक है – ‘बन्दरबांट l यह रचना कुछ वर्ष पूर्व ‘अमर उजाला’ में मेरे वास्तविक नाम (राजीव कुमार सक्सेना) से प्रकाशित हुई थी –

सरकारी लट्टू ने पुन:चक्कर लगाया,
और, विद्यार्थियों के लिये दोपहर का भोजन,
आखिरकार विद्यालय में आया l
इस भोजन की सुलभता और पौष्टिकता,
अपना कमाल दिखाने लगी l
तभी तो गुरुजी की उपस्थिति,
विद्यालय में प्रतिदिन,
शत-प्रतिशत नज़र आने लगी l
अजी, अब तो बड़े साहब भी अपना दायित्व,
बखूबी निभाते हैं l
तभी तो उनके घरेलू बर्तन,
विद्यालय की शोभा बढ़ाते हैं l
नौनिहालों का पेट, आकाओं की नीयत,
वाह, क्या मेल है l
अजी, इस मेल के आगे तो,
बन्दरबांट भी फ़ेल है l
???
– राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद
मो. 8941912642

Share this:
Author
Rajeev 'Prakhar'
I am Rajeev 'Prakhar' active in the field of Kavita.

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you