Skip to content

” बदल गए “

पूनम झा

पूनम झा

लघु कथा

July 19, 2017

” नीतिन तुम ये क्या कर रहे हो ? उलटे-सीधे काम कर रहे हो । कभी बिना मौजे के जूते पहन रहे हो तो कभी आंखों पे चश्मा होने के बावजूद चश्मा ढ़ूढ़ते हो और अब अपना पर्स
भूल रहे हो । ” ……..नमिता उसे पर्स पकड़ाते हुए बोली ।—–.” ऐसा करो अभी टैक्सी से चले जाओ । खुद ड्राईव करके मत जाओ । ” ……
नीतिन हँसते हुए —” डोण्ट वरी । मैं ध्यान से चलाऊँगा । वो बचपन का मेरा सबसे खास दोस्त है विनय । उससे 27 साल बाद मिलूंगा इसलिए खुशी की वजह से पुरानी यादों में खो जाता हूँ । अरे ये तो संयोग है कि मेरे क्लाईंट ने हम दोनों को मिलवाया । ” ………
नीतिन घड़ी देखते हुए —-” ओहो, अब निकलना चाहिए नहीं तो देर हो जाएगी । पार्टी में समय से पहुंचू । “………..
नमिता बालकनी में खड़ी मन ही मन सोच रही थी —-.” कल जब से नीतिन के बचपन के दोस्त का फोन आया है । कितने खुश हो रहे हैं । बस दोस्त ( विनय )और बचपन की बातें ही किये जा रहे हैं । बिल्कुल बच्चे से बन गए हैं ” ……
नीतिन रिशॅार्ट ( जहाँ पार्टी थी ) पहुंच कर गाड़ी पार्क की और अंदर जाते ही दूर से विनय को पहचान गया । जबकि वो काफी लोगों से घिरा हुआ था ।
तेज कदमों से पास पहुँच कर —–.” कहो विनय कैसे हो ? “…….
विनय बिना किसी भाव दिखाते हुए —–.” पांच मिनट नीतिन “……. दूसरी तरफ मुड़कर कई लोगों के साथ फोटो खिंचाने लगा ।
नीतिन मन ही मन—–.” क्या तुम वही विनय हो ? नहीं, बदल गए तुम । “………..
–पूनम झा
कोटा ,राजस्थान

Share this:
Author
पूनम झा
मैं पूनम झा कोटा,राजस्थान (जन्मस्थान: मधुबनी,बिहार) से । सामने दिखती हुई सच्चाई के प्रति मेरे मन में जो भाव आते हैं उसे शब्दों में पिरोती हूँ और यही शब्दों की माला रचना के कई रूपों में उभर कर आती है।... Read more
Recommended for you