Skip to content

” —————————————————— बदले से पल छिन हैं ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

September 14, 2017

रची बसी साँसों में हिंदी , हर दिल की धड़कन है !
हिन्द देश के हम रहवासी , हिंदी जीवन धन है !!

हिन्दी घुट्टी में मिलती है , साथ चले अंग्रेजी !
हिन्दी अंगीकार करें तो , शिक्षण ज्यों चन्दन है !!

हम पिछड़े थे हुये अग्रणी , हिन्दी की माया है !
हिन्दी भाषी चढ़े शिखर अब , आया परिवर्तन है !!

सबने दिल से अपनाया है , अवलम्बन ना छूटा !
अंग्रेजी अब बनी सहायक , बदले से पल छिन हैं !!

बड़ी जरूरत हमें अभी हैं , विशेषज्ञ हम चाहें !
भाषा का जादू छायेगा , आने वाले दिन हैं !!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more