23.7k Members 49.9k Posts

बदले नहीं उसूल

इसे कहूँ उपलब्धि मैं, या मेरी ये भूल !
मैंने अपने आज तक,बदले नहीं उसूल !!

अपनाना यदि आपको,… मेरे विविध उसूल !
उनको कमियों के सहित,करिए आप कबूल !!
रमेश शर्मा.

Like 2 Comment 0
Views 25

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
RAMESH SHARMA
RAMESH SHARMA
मुंबई
498 Posts · 32.5k Views
दोहे की दो पंक्तियाँ, करती प्रखर प्रहार ! फीकी जिसके सामने, तलवारों की धार! !...